वीर काव्य पर दूहा

दूहा60

माई अहड़ा पूत जण

पृथ्वीराज राठौड़

संग बळ जावै नारियां

नाथूसिंह महियारिया

राज करावै खाग ही

नाथूसिंह महियारिया

धीरा धीरा ठाकुरां

सूर्यमल्ल मीसण

नागण जाया चिटला

सूर्यमल्ल मीसण

पातळ रांण प्रवाड़मल

पृथ्वीराज राठौड़

कायर नूं लानत दियै

नाथूसिंह महियारिया

सुत मरियौ हित देस रै

नाथूसिंह महियारिया

अकबर वाली आपरै

गिरधर आसिया

सहु गोधळिया पास

पृथ्वीराज राठौड़

वे रण में विरदावता

नाथूसिंह महियारिया

घण तोपां जागै नहीं

नाथूसिंह महियारिया

पाताळ जो पतिसाह

पृथ्वीराज राठौड़

अइ रे अकबरियाह

पृथ्वीराज राठौड़

सूतो देवर सेज रण

सूर्यमल्ल मीसण

बीकम बरसां बीतियों

सूर्यमल्ल मीसण

ज खल भग्गा तो सखी

सूर्यमल्ल मीसण

धर वांकी दिन पाधरा

पृथ्वीराज राठौड़

कै तौ धव रण जीतिया

नाथूसिंह महियारिया

पटकूं मूछां पाण

पृथ्वीराज राठौड़

चोथौ चीतोड़ाह

पृथ्वीराज राठौड़

संभाळीयो सकतसी

गिरधर आसिया

वाही रांण प्रतापसी

पृथ्वीराज राठौड़

पातळ घड़ पतसाह री

पृथ्वीराज राठौड़

पिउ केसरियाँ पट किया

नाथूसिंह महियारिया

वाचाणह लुघा वचन

गिरधर आसिया

नित्त जगावै पीव नूँ

नाथूसिंह महियारिया

जंग नगारां जाण रव

सूर्यमल्ल मीसण

कटै न को दिन काटियां

नाथूसिंह महियारिया

खग-कूंची जादू करै

नाथूसिंह महियारिया

नीला री खुरताळ पर

नाथूसिंह महियारिया

वा दिस सखी! सुहावणी

नाथूसिंह महियारिया

रण चढ़िया पट पहरियां

नाथूसिंह महियारिया

संपेखें घर घर सहर

गिरधर आसिया

बाला चाल म बीसरे

सूर्यमल्ल मीसण

साथण ढोल सुहावणौ

सूर्यमल्ल मीसण

खग तौ अरियां खोसली

नाथूसिंह महियारिया

दमँगल बिण अपचौ

सूर्यमल्ल मीसण

हेली धव चढिया हमैं

नाथूसिंह महियारिया

कंत न मावै कवच में

नाथूसिंह महियारिया

पाताळ खाग प्रवाण

पृथ्वीराज राठौड़

राजा मांन सकतसी

गिरधर आसिया

बाप पड़यौ् तिण ठौड़ हूँ

नाथूसिंह महियारिया

रहत नपूती तौ इतौ

नाथूसिंह महियारिया