किरसै पर कवितावां

किसान सबद रा अलेखूं

सरूप है। खेतिहर या पछै जमीं बावणियौ किसान अलग व्है, जकै कनै आपरी जमीं व्है वा किसान अलग। पण अठै संकलित रचनावां फगत लोक मुजब 'जमींदार' सबद नै छोड़'र किसान सबद रै सगळां सरुपां नै पूरा करै।

कविता80

मार्क्स

शिव बोधि

सांझ-सुंदरी

महेंद्रसिंह छायण

फरक

किशोर कुमार निर्वाण

कुण?

जयनारायण व्यास

परूडा नी वात

छगन लाल नागर

जाग्या जी करसाण

रामदयाल मेहरा

फोफळियो

जगदीशनाथ भादू 'प्रेम'

किसान रौ विस्वास

मईनुदीन कोहरी 'नाचीज'

म्हारी भी सुणो

उर्मिला औदीच्य

स्वाद

आईदान सिंह भाटी

खेत में द्‌यो हलकारो

बुद्धरंजन शर्मा

'केश्या' की चेतावणी

हीरालाल सास्त्री

खाथो चाल रे

हरीश भादानी

धणी

पवन सिहाग 'अनाम'

परभातियै तारै री पौर

नाथूसिंह इंदा

किसान नूं करम

नरेन्द्रपाल जैन

फसलां

राजेन्द्र सिंह चारण

रामलो अर रामलो

देवकरण जोशी 'दीपक'

जीवन

रामकुमार भाम्भू

आस

सुमन पड़िहार

करसाण

शिव 'मृदुल'

फांदो

विनोद भट्ट

बांध पगां में घूघरा

त्रिलोक शर्मा

ऊपरमाळ

मोहन पुरी

भरोसो

अनिल अबूझ

करसौ

पूजाश्री

निनाण

महावीर प्रसाद जोसी

कागद रै खेत

हनुमान प्रसाद 'बिरकाळी'

दस दात : 7. मोठ

नानूराम संस्कर्ता

दुखड़ो किसान रो

प्रभुदयाल मोठसरा

बिरखा

विप्लव व्यास

पीड़ काळज्यै री

प्रहलादराय पारीक

किरसौ

डालेश पारीक 'मतवाला'

काळ

रामस्वरूप किसान

रेत सूं आस

ऋतु शर्मा

मूँ बापड़ौ

मोड़ सिंघ बल्ला ‘मृगेन्द्र’

गांव

विश्वनाथ शर्मा विमलेश

ऊँघ भरी छ खेत क

गौरीशंकर 'कमलेश'

पग मंडणा

रेवतदान कल्पित

आँच ही आँच

मोहम्मद सदीक

किसान अर जुवान

सोनी सांवरमल

किसान अर मजूर

प्रियंका भारद्वाज

रामजी सूं ओळमौ

जयनारायण व्यास

म्हैं अन्नदाता कोनी

रामस्वरूप किसान

किरसो

राजेश कुमार स्वामी

दस दात : 1. जाट-किसाण मानव

नानूराम संस्कर्ता